अनियमित पीरियड्स

Blog Content Header

एक अनियमित पीरियड वह होता है जब आपका पीरियड नियमित पीरियड से पहले या बाद में आता है। जानिए क्या हैं इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

अनियमित पीरियड क्या होते हैं?

अनियमित पीरियड्स, जिसे ओलिगोमेनोरिया भी कहा जाता है, एक ऐसा शब्द है जिसका इस्तेमाल आमतौर पर असामान्य मेंस्ट्रुअल साइकिल को दर्शाने के लिए किया जाता है। एक सामान्य मेंस्ट्रुअल साइकिल तब होती है जब पीरियड्स के बीच का समय 21 दिनों से 35 दिनों के बीच होती है। अगर मेंस्ट्रुअल साइकिल इससे कम समय में या इससे ज़्यादा समय तक चलती है, तो इसे अनियमित कहा जाता है। इसके अलावा, अनियमित पीरियड्स के अंतर्गत और भी कई चीज़ें आती हैं, जैसे:

  • मौजूदा मेंस्ट्रुअल साइकिल में लगातार या ध्यान देने योग्य बदलाव
  • मेंस्ट्रुअल ब्लीडिंग अगर 8 दिनों से ज़्यादा समय तक चले
  • असामान्य स्पॉटिंग
  • बहुत ज़्यादा या बहुत कम ब्लीडिंग
  • दर्दभरे क्रैम्प
  • मूड में बहुत ज़्यादा बदलाव

क्या अनियमित पीरियड होना एक सामान्य बात है?

अनियमित पीरियड्स होना आप जितना सोचते हैं, उससे ज़्यादा सामान्य है। ज्यादातर महिलाएँ अपने जीवन में किसी न किसी समय अनियमित पीरियड्स का अनुभव करती हैं, ज़्यादातर पहले पीरियड के ठीक बाद, या युवावस्था में प्रवेश के समय। मेनोपॉज़ (रजोनिवृत्ति) से लगभग 3-10 वर्ष पहले तक भी महिलाओं में अनियमित पीरियड होने की संभावना होती है।

अनियमित पीरियड के लक्षण क्या हैं?

औसतन, महिलाओं को आमतौर पर हर साल 11 से 13 पीरियड्स आते हैं और ब्लीडिंग आमतौर पर 5 से 7 दिनों तक होती है। एक ऐसी साइकिल जो इससे काफी अलग हो उसे अनियमित माना जा सकता है।

इसके अलावा, अनियमित पीरियड्स के दूसरे लक्षणों में शामिल हैं:

  • पीरियड का न आना
  • जल्दी या देर से पीरियड आना (यानि, मेंस्ट्रुअल साइकिल जो 21 दिनों से कम या 35 दिनों से ज़्यादा हो)
  • ब्लीडिंग की असामान्य अवधि (5 से कम या 8 दिनों से ज़्यादा )
  • बहुत ज़्यादा दर्दभरे क्रैम्प
  • सिरदर्द
  • ब्लड क्लॉट जिनका व्यास 2.5 सेमी से ज़्यादा हो
  • स्तनों में दर्द
  • फ्लुइड रिटेंशन

अनियमित पीरियड का कारण क्या है?

जो महिलाएँ मेनोपॉज़ (रजोनिवृत्ति) के करीब हैं, यानि, जो 45 से 55 साल के आयु वर्ग में आती हैं, उनमें हार्मोन का स्राव असामान्य और कम-ज़्यादा होता रहता है। मेनोपॉज़ के करीब यह हार्मोनल असंतुलन पीरियड में देरी के सबसे आम कारणों में से एक है। असंतुलन होने के बावजूद, यह प्रोसेस सामान्य तरीके से होती रहती है क्योंकि प्रजनन प्रणाली हार्मोन के स्राव को धीरे-धीरे कम करके मेनोपॉज़ के लिए शरीर को तैयार करती है।

यात्रा और मौसम में बदलाव भी अनियमित पीरियड्स का कारण बन सकते हैं क्योंकि शरीर, पर्यावरण में बदलाव के साथ तालमेल बिठाते हुए खुद भी बदलावों से गुज़र रहा होता है। बहुत ज़्यादा वजन कम होना या वजन बढ़ना, अव्यवस्थित भोजन, नींद की कमी, तनाव, ज़्यादा व्यायाम और आहार में बदलाव भी शरीर की नियमित फंक्शनिंग पर असर कर सकते हैं और इसकी वजह से मेंस्ट्रुएशन में अनियमितता हो सकती है।

इसके अलावा, गर्भनिरोधक विधियों में बदलाव भी पीरियड में देरी का एक कारण हो सकता है। कुछ गर्भनिरोधक विधियों से शरीर में हार्मोनल स्राव में बदलाव होते हैं, जिससे पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं। पीरियड्स को आगे बढ़ाने के लिए गोलियाँ लेने से अनियमित पीरियड्स सहित कई साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं।

अनियमित पीरियड के लिए मैं घर पर क्या उपाय कर सकती हूँ?

असंतुलित हार्मोन अनियमित पीरियड्स के मुख्य कारणों में से एक है। हार्मोन का संतुलन बनाए रखने के लिए, कई चीजें हैं जिन्हें आप घर पर आजमा सकते हैं। इसमे शामिल है

  • नियमित व्यायाम करना।
  • ध्यान और योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करना।
  • संतुलित आहार लेना जिसमें नट्स, तैलीय मछली, फल और सब्जियाँ शामिल हों।
  • कैफीन, शराब और सिगरेट के सेवन से बचना / कम करना।
  • प्रोसेस्ड फ़ूड, कार्बोनेटेड ड्रिंक और बहुत मीठा या बहुत नमकीन खाना कम करना।

img_0627.jpg

अनियमित पीरियड्स के कारण क्या जटिलताएँ होती हैं?

अनियमित पीरियड्स से महिलाओं में पीरियड साइकल और फर्टिलिटी विंडो को समझने में परेशानी से फर्टिलिटी की समस्या हो सकती है। महिलाएँ अपनी फर्टाइल विंडो पीरियड के दौरान भी प्रेग्नेंट नहीं हो सकती हैं या गर्भधारण में जटिलताएँ हो सकती हैं।

पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (PCOS) एक और जटिलता है जो अनियमित पीरियड के कारण हो सकती है। यह एक ऐसी स्थिति होती है जिसमें ओवरी (अंडाशय) में तरल पदार्थ से भरे सैक विकसित हो जाते हैं, जिन्हें सिस्ट कहा जाता है। इसके कारण पेशेंट हर महीने नियमित रूप से ओव्युलेट करना बंद कर देता है।

इस जटिलता से हार्मोन से जुड़े दूसरे विकार भी हो सकते हैं। ऐसी ही एक जटिलता थायराइड विकार है।

अनियमित पीरियड के लिए कैसे तैयार रहें?

एक अनियमित पीरियड का अनुमान लगाना मुश्किल होता है और यह नहीं जान पाना कि आपके पीरियड्स कब आएँगे, तनावपूर्ण हो सकता है। हालाँकि, ऐसी स्थिति में पीरियड सर्वाइवल किट साथ रखना बहुत मददगार हो सकता है। इस किट में अतिरिक्त अंडरवियर, एक सैनिटरी पैड, कुछ टिश्यू और क्रैम्प से राहत के लिए रोल-ऑन बाम शामिल हैं। किट छोटी होनी चाहिए ताकि आप इसे हर जगह अपने साथ ले जा सकें।

अपने पीरियड्स और लक्षणों को ट्रैक करने के लिए ऐप स्टोर में आसानी से उपलब्ध पीरियड ट्रैकिंग ऐप्स का इस्तेमाल करके आप अगले पीरियड साइकल और संभावित लक्षणों का अनुमान लगा सकते हैं।

डॉक्टर के पास कब जाएँ?

अनियमित पीरियड्स होना आम बात हो सकती है लेकिन यह चिंता का विषय है, इसलिए आपको डॉक्टर के पास जाकर अपनी जाँच करवानी चाहिए। अगर आपका पीरियड 2 महीने से ज़्यादा समय से नहीं आता है, या आपको अचानक अनियमित पीरियड होने लगते हैं, तो आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

अगर आपका पीरियड 8 दिनों से ज़्यादा समय तक चलता है और आपको पीरियड्स नहीं रहने पर भी ब्लीडिंग होती है, या अगर आपका पीरियड 21 दिनों से पहले या 35 दिनों से ज़्यादा समय में आता है, तो आपको इसक कारण जानने के लिए डॉक्टर से परामर्श लेनी चाहिए, क्योंकि यह सामान्य नहीं है। पीरियड थोड़ा असहज हो सकता है लेकिन ज़्यादा क्रैम्प और बहुत ज़ायदा ब्लीडिंग होना अच्छा संकेत नहीं है। इसलिए, अगर आपको ऊपर दिए गए लक्षणों में से कोई लक्षण है, तो उसका कारण जानने और अपनी परेशानी का सही हल ढूँढने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

डॉक्टर से परामर्श करने से आपको पीरियड्स की समस्याओं का इलाज करने में मदद मिलेगी और आप आगे की जटिलताओं से बचेंगे।

कुछ ख़ास बातें

अगर आपका पीरियड नहीं आता है या देर से आता है - तो आप अकेली नहीं हैं और इसमें डरने की कोई बात नहीं है। इस परेशानी से निपटने के कई तरीके हैं।

ध्यान रखें कि आप किसी ऐसे व्यक्ति से बात करें जिस पर आप भरोसा करते हैं - अपने माता-पिता, या अपनी बड़ी बहन से ताकि आप जल्द से जल्द परेशानी की जड़ तक पहुँच सकें। अपनी मेंस्ट्रुअल साइकिल को जानना और उस पर नज़र रखना ज़रूरी है। इससे आपको अपने शरीर को बेहतर तरीके से समझने और सही फैसले लेने में मदद मिलती है। ऐसा करने से महिलाओं के लिए पीरियड एक सुरक्षित और खुशहाल अनुभव बन जाता है।

और ब्लॉग

हमें @stayfreeindia पर फॉलो करें