योनि में ईस्ट संक्रमण

Blog Content Header

योनि ईस्ट संक्रमण योनि का एक फंगल इंफेक्शन है जो डिस्चार्ज, बेचैनी और खुजली पैदा कर सकता है। योनि संक्रमण के लक्षण, कारण और उसकी रोकथाम के लिए स्टेप्स के बारे में और जानें।

आपकी वेजाइना (योनि) में यीस्ट और दूसरे बैक्टीरिया का एक अच्छा संतुलन होता है, जो आपकी वेजाइना में हानिकारक सूक्ष्मजीवों को मारते हैं और इसे स्वस्थ रखते हैं। कई बार यह संतुलन गड़बड़ा जाता है जिससे वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन जैसे इंफेक्शन हो सकते हैं।

वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन क्या है?

वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन या वेजाइनल कैंडिडियासिस एक तरह के फंगस कैंडिडा के कारण होने वाला इंफेक्शन है। आमतौर पर नुकसान नहीं पहुँचाने वाला यह फंगस आपकी त्वचा पर और आपके शरीर के अंदर मुंह, आंत और वेजाइना में रहता है।

परेशानी तब होती है जब आपकी वेजाइना में कुछ ऐसे बदलाव होते हैं कि यीस्ट और बैक्टीरिया के बीच संतुलन गड़बड़ा जाता है, जिससे कैंडिडा अपने अनुपात से ज़्यादा बढ़ जाता है, जिससे वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन हो जाता है।

यीस्ट इंफेक्शन के क्या लक्षण हैं?

यीस्ट इंफेक्शन का सबसे मुख्य और सबसे आम लक्षण खुजली और बहुत ज़्यादा परेशानी होना है। हालाँकि, इन लक्षणों के साथ कई और लक्षण भी हो सकते हैं जैसे:

  • वेजाइना में खुजली, सूजन, जलन और लाली: वेजाइना के बाहरी हिस्से में दर्द।
  • पेशाब करते समय जलन महसूस होना : पेशाब करते समय दर्द होना।
  • गाढ़ा, सफेद या भूरे रंग का और पनीर जैसा दिखने वाला वेजाइनल डिस्चार्ज होना: आमतौर पर इसमें गंध नहीं होती है, लेकिन कुछ मामलों में यीस्ट इंफेक्शन डिस्चार्ज में दुर्गंध भी हो सकती है।
  • सेक्स (संभोग) के समय दर्द होना: सेक्स के दौरान तेज दर्द होना।

लक्षण हल्के या गंभीर हो सकते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि इंफेक्शन का इलाज कितने समय तक नहीं किया गया है।

यीस्ट इंफेक्शन किन कारणों से होता है?

आपकी वेजाइना में लैक्टोबैसिलस नामक बैक्टीरिया होता है, जो कैंडिडा को बढ़ने से रोकता है। हालाँकि, कई कारण नेचुरल सिस्टम में असंतुलन पैदा कर सकते हैं, जिससे कैंडिडा बहुत बढ़ जाता है, जिसके कारण वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन होता है। ये कारण हैं:

  • हार्मोनल परिवर्तन: प्रेग्नेंसी, स्तनपान या मेनोपॉज़ के दौरान हार्मोन के स्तर में बदलाव और गर्भनिरोधक गोलियों के कारण असंतुलन से आपकी वेजाइना में यीस्ट और बैक्टीरिया का संतुलन बिगड़ सकता है।
  • एंटीबायोटिक्स: तेज एंटीबायोटिक दवाएँ आपके शरीर में अच्छे बैक्टीरिया को खत्म कर सकती हैं, जिससे यीस्ट अनियंत्रित तरीके से बढ़ सकता है।
  • पुराना मधुमेह: ब्लड प्रेशर की हाई लेवल यीस्ट के पनपने के लिए एक आदर्श वातावरण बनाता है।
  • इंटिमेट हाईजीन प्रॉडक्ट: तेज सुगंध वाले इंटिमेट हाईजीन प्रॉडक्ट का इस्तेमाल आपकी वेजाइना के pH लेवल को बिगाड़ सकता है, जिससे यीस्ट इंफेक्शन हो सकता है।
  • कमज़ोर इम्युनिटी: प्रतिरक्षा की कमी वाले विकार या कमज़ोर इम्युनिटी भी यीस्ट इंफेक्शन के बढ़ने का एक कारण है।

वेजाइनल इंफेक्शन होने का खतरा किस चीज़ से बढ़ सकता है?

महिलाओं में यीस्ट इंफेक्शन होने के मुख्य कारण हैं, एंटीबायोटिक्स, कमज़ोर इम्युनिटी, या गर्भनिरोधक विधियों का इस्तेमाल जैसे कि गर्भनिरोधक गोलियाँ जो हार्मोनल असंतुलन और इंट्रायूटेराइन डिवाइस।

दूसरे कारणों में वेजाइनल हाइजीन का ध्यान न रखना, पुराना तनाव, सोने का समय निश्चित न होना, बहुत ज़्यादा शक्कर वाले भोजन का सेवन और जीवनशैली संबंधी विकार जैसे मोटापा शामिल हैं।

भले ही यीस्ट इंफेक्शन यौन संचारित इंफेक्शन की केटेगरी में नहीं आता है, यीस्ट इंफेक्शन यौन संपर्क से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है।

डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए?

अगर यीस्ट इंफेक्शन के लक्षण बने रहते हैं, या इंफेक्शन बार-बार हो रहा है, तो अपने हेल्थ केयर प्रोफेशनल के पास जाएँ। यह आपको दूसरी गंभीर परेशानियों से बचने में मदद करेगा जिनके लक्षण यीस्ट इंफेक्शन जैसे ही होते हैं। इन गंभीर छुपी हुई बीमारियों में वेजाइना STI और बैक्टीरियल ग्रोथ के दूसरे प्रकार शामिल हैं।

ऐसे मामले में खुद अपना इलाज न करना अच्छा होता है और यीस्ट इंफेक्शन की दवाओं और इलाज के अच्छे तरीके के बारे में एक्सपर्ट की राय लें।

आपकी स्थिति का सटीक डॉयग्नोसिस करने के लिए, आपके गायनोकोलॉजिस्ट आपसे आपके स्वास्थ्य और पिछली मेडिकल हिस्ट्री की जानकारी ले सकते हैं। इससे उन्हें आपके शरीर की प्रवृत्ति को और अगर पहले कभी आपको कोई इंफेक्शन हुआ हो, तो उसे समझने में मदद मिलेगी।

आपका डॉक्टर इंफेक्शन के किसी भी लक्षण जैसे आपके वेजाइना के बाहरी हिस्से पर लालिमा, दर्द या सूजन को देखकर एक पैल्विक एग्ज़ामिनेशन भी कर सकता है। वे आपकी वेजाइनल वॉल और सर्विक्स की जाँच करने के लिए इंस्ट्रूमेंट का इस्तेमाल कर सकते हैं।

वे आपके वेजाइनल डिस्चार्ज का सैंपल लेकर आपके वेजाइनल फ्लूइड के लिए टेस्ट की सलाह भी दे सकते हैं। इंफेक्शन पैदा करने वाले फंगस के प्रकार की जाँच करने पर उसका पता लगा कर, वे उसे ध्यान में रखकर ज़्यादा असरदार इलाज बता सकते हैं।

कुछ ख़ास बातें :

वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन से खुजली और परेशानी हो सकती है, लेकिन इसका पूरी तरह से इलाज किया जा सकता है। अगर आपको लगता है कि आपको यीस्ट इंफेक्शन हुआ है, तो इसे सहन न करें और अपने प्राइमरी हेल्थ प्रोवाइडर से सलाह लें । अपनी माँ, बड़ी बहन, यहाँ तक कि अपने स्कूल के टीचर या कॉउंसलर से बात करें। वे आपको ऐसी स्थितियों से बाहर निकालने में आपकी मदद कर सकते हैं। आपके इंफेक्शन की गंभीरता के हिसाब से, भविष्य में किसी भी तरह की जटिलताओं से बचने के लिए पूरी तरह से जाँच कराएँ और इंफेक्शन का समय पर इलाज करने के लिए अपने डॉक्टर के पास जाएँ।

और ब्लॉग

हमें @stayfreeindia पर फॉलो करें