पैंटी लाइनर क्या होते हैं?

Blog Content Header

जानें कि स्टेफ्री इंडिया द्वारा दिए जाने वाले पीरियड लाइनर क्या होते हैं और वे आपके नॉन-पीरियड दिनों में भी किसी भी तरह के डिस्चार्ज को कैसे रोक सकते हैं, जिनसे आप असहज महसूस कर सकते हैं।

पैंटी लाइनर रोज़मर्रा के फेमिनाइन हाइजीन प्रॉडक्ट हैं जिनके इस्तेमाल से आपको सूखा और तरोताज़ा महसूस होता है।

पैंटी लाइनर क्या होते हैं?

पैंटी लाइनर आपके सैनिटरी पैड की तरह ही होते हैं - लेकिन ये पतले, छोटे और कम सोखने की क्षमता वाले होते हैं। हालाँकि, पीरियड के दिनों में इस्तेमाल किए जाने वाले सैनिटरी पैड के विपरीत, पैंटी लाइनर का इस्तेमाल उन दिनों में किया जाता है, जब आपका पीरियड न हो, जब आपको वेजाइनल डिस्चार्ज और/या स्पॉटिंग हो सकती है।

हालाँकि वेजाइनल डिस्चार्ज पूरी तरह से नेचुरल है और आपकी वेजाइना के लिए महत्वपूर्ण है (यह आपकी वेजाइना की खुद ही अपनी सफाई करने की टेक्निक का हिस्सा है), ज़्यादा डिस्चार्ज से आपकी पैंटी (या आपके बॉटम) पर दाग लग सकता है और आपको गीला और बुरा महसूस करा सकता है।

ऐसे दिनों में सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करना ठीक नहीं है और तभी पैंटी-लाइनर काम आता है। यह किसी भी तरह की स्पॉटिंग होने से रोक सकता है और आपको साफ-सुथरा और तरोताज़ा महसूस करने में मदद करता है।

पैंटी लाइनर सैनिटरी पैड से किस तरह अलग होते हैं?

भले ही पैंटी लाइनर का इस्तेमाल सैनिटरी नैपकिन की तरह ही किया जाता है, लेकिन वे सैनिटरी पैड से अलग होते हैं। पैंटी लाइनर पतले होते हैं और बहुत कम सोखते हैं। सैनिटरी नैपकिन को इस तरह से डिज़ाइन किया जाता है कि उनमें इतनी क्षमता होती है कि वे आपके पीरियड के दिनों में बहुत ज़्यादा फ्लो को भी सोख सकते हैं। दूसरी ओर पैंटी लाइनर हल्के वेजाइनल डिस्चार्ज और बहुत हल्के पीरियड ब्लड फ्लो को सोखने के लिए डिज़ाइन किए जाते हैं।

पैंटी लाइनर किस लिए होते हैं?

पैंटी लाइनर्स के कई इस्तेमाल होते हैं जिसके कारण आपको उन्हें अपने पर्सनल हाइजीन प्रॉडक्ट की लिस्ट में ज़रूर शामिल करना चाहिए। यहाँ उनमें से कुछ दिए गए हैं:

  • इंटिमेट हाइजीन के लिए ज़रूरी
    आपके जिस मेंस्ट्रुअल साइकिल की स्टेज से गुज़र रही हैं, उसके आधार पर, आप वेजाइनल डिस्चार्ज का अनुभव करेंगी जिससे लंबे समय तक गीलापन और परेशानी हो सकती है। पैंटी लाइनर इस नमी को सोख लेते हैं और आप तरोताज़ा और साफ-सुथरा महसूस करते हैं। यह खास तौर पर वर्कआउट या लंबे समय तक काम करने या स्कूल के दौरान काम आता है।
  • हल्की यूरिन लीक को सोखता है
    छींकने, खाँसने, हंसने या भारी कसरत जैसे दौड़ना, रस्सी कूदना या जंपिंग जैक से स्ट्रेस के कारण इन्वॉलंटरी यूरिनेशन हो सकता है, जिसमें ब्लैडर पर अचानक से दबाव पड़ने पर हल्की सी यूरिन अपने आप लीक हो सकती है। स्ट्रेस के कारण इन्वॉलंटरी यूरिनेशन एक बहुत ही सामान्य घटना है और पैंटी लाइनर हल्की पैडिंग के तौर पर काम करते हैं जो इस तरह के हल्के लीकेज को सोख कर सकते हैं।
  • हल्की मेंस्ट्रुअल ब्लीडिंग को सोखता है
    आपके पीरियड के आखिरी कुछ दिनों में जब आपको कम ब्लीडिंग होती है और सैनिटरी नैपकिन इस्तेमाल करने की ज़रूरत नहीं होती है, तो पैंटी लाइनर आपके कम फ्लो को सोखकर स्टेनिंग से बचाता है।.
  • पीरियड आने से कुछ दिन पहले
    जब आपके पीरियड्स नज़दीक होते हैं तो आप अपने पीरियड्स आने से कुछ दिन पहले से पैंटी लाइनर्स का इस्तेमाल शुरू कर सकती हैं ताकि पीरियड अचानक आ जाने पर होने वाली परेशानी से बच सकें और अपनी पैंटी और कपड़ों को गंदे होने से बचा सकें। यह खास तौर से तब ज़रूरी है, जब आपका पीरियड अनियमित है, और समय पर नहीं आता है।
  • टैम्पॉन और मेंस्ट्रुअल कप के साथ अतिरिक्त सुरक्षा
    अगर आपने अभी-अभी टैम्पॉन और मेंस्ट्रुअल कप का इस्तेमाल करना शुरू किया है और अभी भी आपको उनकी आदत नहीं हुई है, तो उन्हें पैंटी लाइनर के साथ इस्तेमाल करना एक अच्छा तरीका है। जब तक आप आसानी से उनका इस्तेमाल न करने लग जाएँ और आपको उनकी आदत न पड़ जाए, तब तक यह आपको अचानक होने वाले लीकेज से बचाएँगे।
  • सफर के दौरान इनका इस्तेमाल करें
    सफर के दौरान पैंटी लाइनर्स साथ रखने से आपको अपने अंडरगारमेंट्स को साफ रखने में मदद मिलेगी, खासकर जब आप उन्हें बार-बार धो नहीं सकती जैसे, किसी ट्रेक पर।
  • पोस्टपार्टम (प्रसवोत्तर) ब्लीडिंग के लिए इनका इस्तेमाल करें
    पोस्टपार्टम ब्लीडिंग चार से आठ हफ्ते तक होती है। अगर इस दौरान फ्लो बहुत ज़्यादा नहीं है, तो पैंटी लाइनर इसे सोख सकते हैं।

पैंटी लाइनर्स के क्या फायदे हैं?

जिस तरह सैनिटरी नैपकिन और दूसरे पीरियड प्रॉडक्ट्स दुनिया भर में वयस्क महिलाओं के लिए वरदान साबित हुए हैं, उसी तरह पैंटी लाइनर्स के कई फायदे हैं:

  • वे हर दिन होने वाले वेजाइनल डिस्चार्ज को सोखते हैं और आपको पूरे दिन तारोताज़ा, सूखा और आरामदायक महसूस करने में मदद करते हैं।
  • वे आपको लंबे समय तक नमी में रहने के कारण होने वाले इंफेक्शन से बचाते हैं।
  • वे आपके पीरियड के आखिरी दिनों में हल्के मेंस्ट्रुअल फ्लो से सुरक्षा दे सकते हैं, जब फ्लो इतना ज़्यादा नहीं होता कि दूसरे पीरियड प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल किया जाए।
  • वे अचानक से पीरियड आ जाने पर आसानी से बदली जा सकने वाली अंडरवियर की तरह होते हैं।
  • वे हर दिन इंटिमेट हाइजीन बनाए रखने में मदद करते हैं।

पैंटी लाइनर के क्या नुकसान हो सकते हैं?

पैंटी लाइनर बहुत सुविधाजनक होते हैं और कई तरह से आपकी मदद कर सकते हैं, हालाँकि, कुछ चीजें हैं जिन्हें आपको पैंटी लाइनर का इस्तेमाल करते समय ध्यान में रखनी चाहिए:

  • सैनिटरी नैपकिन और टैम्पॉन की तरह ही, हम आपको कुछ घंटों में पैंटी लाइनर बदलने की सलाह देते हैं, हर 3-5 घंटे में इन्हें बदलना अच्छा रहता है। यह इंफेक्शन के जोखिम को कम करता है।
  • सोते समय पैंटी लाइनर लगाकर नहीं सोना चाहिए। ऐसा नहीं है कि ये आरामदायक नहीं होते हैं, बल्कि अच्छी क्वालिटी के पैंटी लाइनर तो महसूस भी नहीं होते हैं। लेकिन, यह आपकी त्वचा को ठीक से साँस नहीं लेने देते हैं।

पैंटी लाइनर का इस्तेमाल कैसे करें?

पैंटी लाइनर्स का इस्तेमाल करना सैनिटरी नैपकिन के इस्तेमाल जितना ही आसान है। बस पीछे लगी पट्टी को हटा दें ताकि नीचे वाल चिपकने वाला हिस्सा खुल जाए और फिर पैंटी लाइनर को मज़बूती से चिपका दें। और यह हो गया! आमतौर पर हर 3-5 घंटे में या अगर पैंटी लाइनर गीला महसूस होने लगे तो उसे बदल दें। ध्यान रखें कि इस्तेमाल किए गए पैंटी लाइनर को कूड़ेदान में फेंक दें और उन्हें फ्लश न करें क्योंकि वे टॉयलेट में फंस सकते हैं। अगर आपने पैंटी लाइनर इस्तेमाल करने का फैसला कर लिया है, तो जॉनसन एंड जॉनसन (स्टेफ्री की मूल कंपनी) बाजार में आती है और भारत में केयरफ्री पेंटीलाइनर्स की मार्केटिंग करती है और डिस्ट्रीब्यूट करती है, जो इस सेगमेंट के मुख्य ब्रांड में से एक है। आप इसे ऑनलाइन या अपने किसी नज़दीकी फार्मेसी स्टोर से खरीद सकते हैं।

कुछ ख़ास बातें

पैंटी लाइनर हर दिन आपकी इंटिमेट हाइजीन को बनाए रखने में आपकी मदद कर सकते हैं। हालाँकि, हर किसी को पैंटी लाइनर्स की ज़रूरत महसूस नहीं होती है। अब जब आप सभी पैंटी लाइनर के बारे में जानते हैं, तो आप अपनी ज़रुरत के हिसाब से सही प्रॉडक्ट चुन सकते हैं।

और ब्लॉग

हमें @stayfreeindia पर फॉलो करें